Uttar Pradesh

इटावा के 25 शिक्षकों की सेवा समाप्त, अखिलेश सरकार में फर्जी सर्टिफिकेट से हुई थी भर्ती

TET की परीक्षा में नाकाम होने के बाद इन शिक्षकों ने फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर पाई थी नौकरी. (सांकेतिक फोटो)

इटावा की जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कल्पना सिंह ने इनकी बर्खास्तगी की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि शिक्षक पात्रता परीक्षा का फर्जी प्रमाण पत्र पाए जाने पर 25 शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया गया है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 2, 2020, 10:53 PM IST

दिनेश शाक्य

इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले के 25 शिक्षकों को बर्खास्त (Dismissed) कर दिया गया है. इन शिक्षकों के शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) के प्रमाण पत्र फर्जी (fake certificate) पाए गए. इनकी नियुक्ति अखिलेश सरकार (Akhilesh government) में हुई भर्ती के दौरान हुई थी. इटावा की जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कल्पना सिंह ने इनकी बर्खास्तगी की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि शिक्षक पात्रता परीक्षा का फर्जी प्रमाण पत्र पाए जाने पर 25 शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया गया है. शासन के निर्देश पर गठित अपर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जुलाई 2018 में बनाई गई कमेटी की जांच के आधार पर 2013 व 2016 में चयनित किए गए शिक्षकों के प्रपत्रों की जांच कराए जाने के बाद यह कार्रवाई की गई.

बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि जांच कमेटी ने वर्ष 2011 की शिक्षक पात्रता परीक्षा के प्रमाण पत्रों की जांच की थी. इसके लिए इनका सत्यापन कराया गया था. सत्यापन होने के बाद कमेटी ने 25 शिक्षकों को बर्खास्त करने की संस्तुति की थी. उन्होंने बताया कि इसके अलावा 12 शिक्षकों का सत्यापन न हो पाने पर उनका वेतन रोकने का निर्देश दिया गया है. इस मामले में पहले ही नौ शिक्षकों को बर्खास्त किया जा चुका है, अब कुल मिलाकर संख्या 34 हो गई है. उन्होंने बताया कि कमेटी की रिपोर्ट जैसे ही आएगी आगे की कार्रवाई की जाएगी. इन लोगों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया जाएगा.

ताखा ब्लाक में बर्खास्त सबसे अधिक शिक्षकबर्खास्त किए गए 25 सरकारी शिक्षकों में सबसे ज्यादा 16 ताखा ब्लाक के हैं. महेवा, चकरनगर व बसरेहर में भी कई शिक्षक बर्खास्त किए गए हैं. भरथना ब्लॉक में एक शिक्षक को बर्खास्त किया गया है.

दिया गया सेवा समाप्ति नोटिस

जांच समिति बीते दो साल से जांच कर रही थी. सभी फर्जी शिक्षकों पहले ही नोटिस दिया जा चुका था. लेकिन अब इनकी सेवा समाप्ति कर दी गई. बर्खास्त शिक्षकों ने टीईटी परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने के बाद फर्जी सर्टिफिकेट के बल पर नौकरी हथिया ली थी. जांच में इनके रोल नंबर पर किसी अन्य अभ्यर्थी का नाम पाया गया था. ताखा ब्लाक में बर्खास्त किए गए शिक्षकों में प्राथमिक विद्यालय बोझा के रूप किशोर, प्राथमिक विद्यालय नगला भागा के विकास कुमार, प्राथमिक विद्यालय बनीहरदू के मंगल सिंह, प्राथमिक विद्यालय बम्हनीपुर के धर्मेंद्र सिंह, प्राथमिक विद्यालय अहिवरनपुर के राजेन्द्र कुमार, प्राथमिक विद्यालय सरावा के राजवीर सिंह, प्राथमिक विद्यालय रिदौली के दिलीप सिंह, प्राथमिक विद्यालय मोहरी के अरुण कुमार, प्राथमिक विद्यालय नगला बंधा के अवधेश कुमार, प्राथमिक विद्यालय कठौतिया के धर्मेंद्र सिंह, प्राथमिक विद्यालय चमरौआ के मुनेश कुमार, प्राथमिक विद्यालय भरतपुर खुर्द के प्रदीप कुमार, भडरपुर के नीरज मिश्रा, प्राथमिक विद्यालय बनी केशोपुर के संजय लवानिया, प्राथमिक विद्यालय नगला प्रीत के बृजेश कुमार और प्राथमिक विद्यालय सरावा के जयव्रेश हैं.



Source link

Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top