खेल

चैंपियंस ट्रॉफी : शूटआउट में हार से टूटा भारत का सपना, ऑस्‍ट्रेलिया ने रचा इतिहास!

ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को भारत को शूटआउट में 3-1 (1-1) से हराकर 15वीं बार चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम कर लिया. जबकि दूसरी बार फाइनल में पहुंचने के बावजूद भारत का पहला खिताब जीतने का सपना पूरा नहीं हो सका. निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थीं. मैच का पहला गोल ऑस्ट्रेलिया के लिए गोवर्स ने 24वें मिनट में किया था जबकि भारत के विवेक सागर ने 42वें मिनट में गोल करते हुए स्कोर बराबर कर दिया था.
शूटआउट में ऑस्ट्रेलिया के लिए जेलेवस्की, बीले और जेरेमी एडवर्ड ने गोल किए जबकि भारत के लिए मनप्रीत सिंह ने एकमात्र गोल दागा. भारत की ओर से सरदार सिंह, ललित उपाध्याय और हरमनप्रीत सिंह गोल नहीं कर सके.
ऑस्ट्रेलिया ने इससे पहले 2016 में भी फाइनल में भारत को शूटआउट में मात देकर खिताब जीता था.
भारतीय टीम मुकाबले के पहले क्वार्टर में मिले दो पेनल्टी कॉर्नर का फायदा नहीं पाई जबकि ऑस्ट्रेलिया ने 24वें मिनट में पहले ही पेनल्टी कॉर्नर पर गोल में तब्दील कर 1-0 की बढ़त हासिल कर ली. ऑस्ट्रेलिया के लिए यह गोल गोवर्स ने दागा. ऑस्ट्रेलिया ने इस बढ़त को हाफ टाइम तक कायम रखा.
दूसरे हाफ में 33वें मिनट में भारत को उसका चौथा पेनल्टी कॉर्नर हासिल हुआ. लेकिन मनप्रीत इस मौके को गले नहीं लगा पाए. भारत ने अपना आक्रमण जारी रखा और 37वें मिनट में भारत ने पेनल्टी के लिए रेफरल मांगा लेकिन उसका यह रेफरल खारिज कर दिया गय
मुकाबले के 42वें मिनट में भारत को उस समस एक बड़ी सफलता हाथ लगी जब विवेक सागर प्रसाद ने मैदानी गोल कर स्कोर 1-1 से बराबरी पर ला दिया. भारत ने तीसरे क्वार्टर की समाप्ति तक इस बराबरी को कायम रख
मैच का चौथा और आखिरी क्वार्टर काफी रोमांचक रहा. भारत के पास 54वें मिनट में बढ़त लेने का मौका था लेकिन ऑस्ट्रेलिया के गोलकीपर ने इसका शानदार बचाव कर भारतीय टीम को बढ़त नहीं लेने दिया
मुकाबला समाप्त होने को पांच मिनट बचा था लेकिन दोनों टीमों में से कोई भी बढ़त नहीं ले पाई और मुकाबला शूटआउट में चला गया, जहां ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 3-1 से शिकस्त देकर खिताब जीत लिय
इससे पहले, छह टीमों की इस टूर्नामेंट में मेजबान नीदरलैंड्स ने दिन के एक अन्य मैच में ओलंपिक चैंपियन अर्जेंटीना को 2-0 से हराकर तीसरा स्थान हासिल किया. वहीं बेल्जियम ने पाकिस्तान को 2-1 से मात देकर पांचवां स्थान प्राप्त किया
ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को भारत को शूटआउट में 3-1 (1-1) से हराकर 15वीं बार चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम कर लिया. जबकि दूसरी बार फाइनल में पहुंचने के बावजूद भारत का पहला खिताब जीतने का सपना पूरा नहीं हो सका. निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थीं. मैच का पहला गोल ऑस्ट्रेलिया के लिए गोवर्स ने 24वें मिनट में किया था जबकि भारत के विवेक सागर ने 42वें मिनट में गोल करते हुए स्कोर बराबर कर दिया था.
शूटआउट में ऑस्ट्रेलिया के लिए जेलेवस्की, बीले और जेरेमी एडवर्ड ने गोल किए जबकि भारत के लिए मनप्रीत सिंह ने एकमात्र गोल दागा. भारत की ओर से सरदार सिंह, ललित उपाध्याय और हरमनप्रीत सिंह गोल नहीं कर सके.
ऑस्ट्रेलिया ने इससे पहले 2016 में भी फाइनल में भारत को शूटआउट में मात देकर खिताब जीता था.
भारतीय टीम मुकाबले के पहले क्वार्टर में मिले दो पेनल्टी कॉर्नर का फायदा नहीं पाई जबकि ऑस्ट्रेलिया ने 24वें मिनट में पहले ही पेनल्टी कॉर्नर पर गोल में तब्दील कर 1-0 की बढ़त हासिल कर ली. ऑस्ट्रेलिया के लिए यह गोल गोवर्स ने दागा. ऑस्ट्रेलिया ने इस बढ़त को हाफ टाइम तक कायम रखा.
दूसरे हाफ में 33वें मिनट में भारत को उसका चौथा पेनल्टी कॉर्नर हासिल हुआ. लेकिन मनप्रीत इस मौके को गले नहीं लगा पाए. भारत ने अपना आक्रमण जारी रखा और 37वें मिनट में भारत ने पेनल्टी के लिए रेफरल मांगा लेकिन उसका यह रेफरल खारिज कर दिया गय
मुकाबले के 42वें मिनट में भारत को उस समस एक बड़ी सफलता हाथ लगी जब विवेक सागर प्रसाद ने मैदानी गोल कर स्कोर 1-1 से बराबरी पर ला दिया. भारत ने तीसरे क्वार्टर की समाप्ति तक इस बराबरी को कायम रख
मैच का चौथा और आखिरी क्वार्टर काफी रोमांचक रहा. भारत के पास 54वें मिनट में बढ़त लेने का मौका था लेकिन ऑस्ट्रेलिया के गोलकीपर ने इसका शानदार बचाव कर भारतीय टीम को बढ़त नहीं लेने दिया
मुकाबला समाप्त होने को पांच मिनट बचा था लेकिन दोनों टीमों में से कोई भी बढ़त नहीं ले पाई और मुकाबला शूटआउट में चला गया, जहां ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 3-1 से शिकस्त देकर खिताब जीत लिय
इससे पहले, छह टीमों की इस टूर्नामेंट में मेजबान नीदरलैंड्स ने दिन के एक अन्य मैच में ओलंपिक चैंपियन अर्जेंटीना को 2-0 से हराकर तीसरा स्थान हासिल किया. वहीं बेल्जियम ने पाकिस्तान को 2-1 से मात देकर पांचवां स्थान प्राप्त किया

Facebook Comments
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top